कविता

नात: ढूंढते हैं लोग उन जैसा बशर बेकार है

ढूंढते हैं लोग उन जैसा बशर बेकार है
मुस्तफ़ा का मिस्ल कोई भी नहीं संसार में

बे खुदी होती है कैसी हसरते दीदार में
डस लिया एक मार ने, एक यार को, एक ग़ार में

चौदहवीं के चांद में इतनी चमक है ही नहीं
नूर है जितना मेरे सरकार के रुखसार में

दर बदर जन्नत की खातिर क्यों भटकते हैं भला
खुल्द तो है आपके आ़माल में, किरदार में

अहले दानिश को पता देता है वह फ़िरदौस का
जिसका दिल दीवाना होता है नबी के प्यार में

दोनों बाज़ू काट कर बातिल यज़ीदी खुश ना हों
अब भी बाकी है बहुत हिम्मत अलमबरदार में

जैसे अहमद शहद घुल जाए दहेन में इस तरह
चाशनी होती है नात के अशआ़र में

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button