कविता धार्मिक

रमज़ान जा रहा है

कविता: रमज़ान जा रहा है
कवि: नासिर मनेरी
संस्थापक व अध्यक्ष: मनेरी फाउंडेशन, इंडिया

ग़मगीन सब को कर के मेहमान जा रहा है।
कर के उदास माह-ए-गुफरान जा रहा है।।

मस्जिद की रौनकें भी अब खत्म हो रही हैं।
सदमा हज़ार देकर रमज़ान जा रहा है।।

रोजा नमाज़, सहरी, इफ्तारी व तरावीह।
हमराह-ए-हर सआदत मेहमान जा रहा है।।

रहमत थी, मग़फ़िरत थी, और थी नजात-ए-नार।
जिस माह में वो माह-ए-फैज़ान जा रहा है।।

जिस माह में जज़ा भी सत्तर गुना थी ज़्यादा।
अफसोस अब वो माह-ए-गुफरान जा रहा है।।

रब की रज़ा का जिस में मिलता सुनहरा मौक़ा।
हो कर जुदा वो माह-ए-रिज़वान जा रहा है।।

कैसे करे ये मेहमाँ “नासिर मनेरी” रुख़सत।
है हाल तो बुरा अब रमज़ान जा रहा है।।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *