गोरखपुर

गोरखपुर: दीन-ए-इस्लाम में तालीम की खास अहमियत: नायब काज़ी ए शहर

गोरखपुर। अहमदनगर चक्शा हुसैन में ईद मिलादुन्नबी जलसा हुआ। सदारत हाफिज मो. शम्सुद्दीन ने की। संचालन हाफिज अज़ीम अहमद नूरी ने किया। कुरआन-ए-पाक से जलसे का आगाज हुआ। पैगंबर-ए-आज़म हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम की शान में नात-ए-पाक पेश की गई।

मुख्य वक्ता मुफ्ती मो. अजहर शम्सी (नायब काजी) ने कहा कि दीन-ए-इस्लाम व पैगंबर-ए-आज़म हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम के बताए रास्ते पर हम सभी को चलना चाहिए। दीन-ए-इस्लाम ने तालीम पर खास तवज्जो दी है। इसका सबूत भी हमें कुरआन-ए-पाक में मिलता है। कुरआन-ए-पाक और हदीस-ए-पाक इल्म का ख़ज़ाना है। जिसमें इंसान के हर सवाल और मुश्किलों का जवाब मौजूद है। इसमें रहनुमाई, हिकमत, इंसानियत, अमन, भाईचारा व नेकी आदि का पैगाम है। कुरआन-ए-पाक व हदीस-ए-पाक मुकम्मल दस्तूर-ए-हयात है इसलिए मुसलमानों को कुरआन-ए-पाक और हदीस-ए-पाक की रोशनी में दीन-ए-इस्लाम की राह पर चलना होगा, तभी मुसलमान आगे बढ़ सकता है।

अंत में सलातो सलाम पढ़कर मुल्क में अमनो सलामती की दुआ मांगी गई। शीरीनी बांटी गई। जलसे में हाफिज मो. जमालुद्दीन निज़ामी, मौलामा गुलाम हुसैन कादरी, हाफिज नूर अहमद, मो. दानिश, शादाब अहमद, मो. फैजान, दारैन हैदर, आसिफ जावेद, शाबान अली आदि मौजूद रहे।

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button