संपादकीय सामाजिक

कैसे मनाऊं दिवाली तेरे संग पिया?

लेखक: मोहम्मद शोऐब रज़ा निज़ामी फ़ैज़ीप्रधान संपादक: हमारी आवाज़ , गोरखपुर आसाम में मेरे भाई की मुर्दा लाश को पैरों तले रौदा गया, यूपी में चूड़ी बेचने वाले मेरे भाई को आईडी चेक करके मारा गया, त्रिपुरा में मेरी धार्मिक स्थलों और पूजा पाठ के लिए बनाए गए मस्जिदों में तोड़फोड़ की गई, मेरे धार्मिक […]

सामाजिक

महंगे तेल ने फेरा कुम्हारों की उम्मीदों पर पानी

सोशल मीडिया पर की गई अपीलों और दीपक बनाने वाले गरीब कुम्हारों के प्रति संवेदनशीलता का भाव होते हुए भी दीपावली पर मिट्टी के दीपकों की बिक्री वैसी होती नही दिखी जैसी होती थी।कारण साफ है कि दीपकों में दीप प्रज्ज्वलन के लिए पड़ने वाला सरसों यानी कडुये तेल का भाव आसमान छू रहा है। […]

धार्मिक

दिवाली से पहले जान लें यह मसाइल, नहीं तो पछताना पड़ेगा

दिवाली की मुबारकबाद देना और दिवाली की मिठाई मस्अला:– होली दिवाली बद-मज़हबों के त्योहारों पर हिंदुओं को मुबारकबाद देना। सख़्त हराम, और कुफ़्र की तरफ़ ले जाने वाला काम है। मस्अला:- अगर अपनी खुशी से मुबारकबाद दे या शरीक हो या उनके इस काम को अच्छा समझे। तो ऐसा करने वाला काफ़िर होगा। उस पर […]

कविता

दीवाली गीत

रौशनी बन के छाई दीवालीमेरे घर मुस्कुराई दीवाली आओ इस को दिलों में भर लें हमजो उजाला है लाई दीवाली हिज्र में यादों के दिये रख करअब के मैं ने जगाई दीवाली ज़ुल्म की तीरगी से गुज़रे हैंतब कहीं हम ने पाई दीवाली कट गया मरहबा मेरा बनबासआज मैं ने मनाई दीवाली पैरहन उस का […]