गोरखपुरमसाइल-ए-दीनीया

रोजे़ की हालत में कोरोना वैक्सीन लगवाना जायज़ है : मुफ्ती अख्तर

गोरखपुर। उलेमा-ए-अहले सुन्नत द्वारा जारी रमज़ान हेल्प लाइन पर सवाल-जवाब का सिलसिला शुरु हो गया है। मंगलवार को उलेमा-ए-किराम ने अवाम के सवालों का जवाब क़ुरआन व हदीस की रोशनी में दिया।

सवाल: रोजे की हालत में कोरोना वैक्सीन लगवाना कैसा?
(अमन खान, बसंतपुर)
जवाब: रोजे की हालत में कोरोना वैक्सीन लगवाना जायज है। इससे रोजे पर कोई असर नहीं पड़ेगा। (मुफ्ती अख्तर हुसैन मन्नानी)

सवाल: बगैर किसी वजह के रोजा छोड़ने वाला कैसा है? (सलमान, बड़गो)
जवाब: ऐसा शख्स सख्त गुनाहगार और अजाबे जहन्नम का हकदार है। (कारी मो. अनस रज़वी)

सवाल: किन वजहों से रोजा छोड़ा जा सकता है? (मो. अफरोज, सिधारीपुर)
जवाब: रोजा दो वजहों से छोड़ा जा सकता है बीमारी व सफर। यानी बीमार और मुसाफिर को इजाजत है कि वो रमज़ान के दिनों में रोजा न रखे और बाद में उसकी कज़ा कर लें। (मौलाना अब्दुल खालिक निज़ामी)

सवाल: रोजे की हालत में इन्हेलर का इस्तेमाल करना कैसा? (फैज, सूफीहाता)
जवाब: रोजे की हालत में इन्हेलर का इस्तेमाल करना हराम व गुनाह है। इसकी वजह से रोजा टूट जाएगा। (मुफ्ती मो. अज़हर शम्सी)

सवाल: नाबालिग बच्चों के नाम जो रकम फिक्स है उस पर जकात है या नही? (सोहेल अहमद, पहाड़पुर)
जवाब: नहीं नाबालिग बच्चों के नाम जो रकम फिक्स है उस पर जकात वाजिब नहीं। न लड़के पर न मां-बाप पर। (मुफ्ती खुर्शीद अहमद मिस्बाही)

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button