गोरखपुर शैक्षिक संस्थानों से

मुगीस हाफ़िज़-ए-क़ुरआन बन अब चले इंजीनियर बनने

  • भव्य जलसा व दस्तारबंदी आज

गोरखपुर। जोश व जज्बा हो तो कोई काम मुश्किल नहीं जिसे साबित किया है बरकाती मकतब में पढ़ने वाले मोहम्मद मुगीस ने। पुराना गोरखपुर गोरखनाथ के रहने वाले 19 वर्षीय मोहम्मद मुगीस अंसारी ने पूरा क़ुरआन-ए-पाक याद कर लिया है और कानपुर के एक इंजीनियरिंग कॉलेज में बीटेक के कम्प्यूटर साइंस में एडमिशन भी ले लिया है। उन्होंने इसी साल इंटरमीडिएट की परीक्षा स्टेपिंग स्टोन इंटर कॉलेज से 76 प्रतिशत अंकों के साथ पास की। मुगीस के पिता हेसामुद्दीन अंसारी सरकारी शिक्षक हैं वहीं मां फरीदा तबस्सुम गृहिणी हैं। मां की ख्वाहिश को पूरा करते हुए मुगीस ने बरकाती मकतब पुराना गोरखपुर गोरखनाथ में हाफिज रजी अहमद बरकाती की देखरेख में पूरा क़ुरआन-ए-पाक याद किया।

इस खुशी के मौके पर सोमवार 3 अक्टूबर को शाम 6 बजे से सवेरा मैरेज हाउस पुराना गोरखपुर गोरखनाथ में भव्य जलसा होगा। जिसमें मुगीस की दस्तारबंदी की जाएगी। जलसे में घोसी मऊ के मुफ़्ती रिजवान अहमद शरीफी, मुफ़्ती-ए-शहर अख़्तर हुसैन, नायब काजी मुफ़्ती मोहम्मद अज़हर शम्सी, मुफ़्ती मेराज अहमद कादरी, मुफ़्ती मुनव्वर रज़ा, मौलाना जहांगीर अहमद अजीजी, हाफिज रहमत अली निजामी अवाम को संबोधित करेंगे। नात-ए-पाक हाफिज मोहम्मद असलम बरकाती व हाफिज मोहम्मद आरिफ पेश करेंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *