बरेली

ताजुश्शरिया के दो रोज़ा उर्स का कार्यक्रम जमात रज़ा-ए- मुस्तफा ने जारी किया

सुन्नी बरेलवी मसलक के सबसे बड़े मजहबी रहनुमा ताजुश्शरिया मुफ्ती मोहम्मद अख्तर रज़ा खाँ (अज़हरी मियां) के दो रोज़ा उर्स-ए-ताजुश्शरिया का कार्यक्रम जमात रज़ा-ए-मुस्तफ़ा ने जारी कर दिया है। उर्स के सभी कार्यक्रम दरगाह ताजुश्शरिया के सज्जादानशीन काजी-ए-हिन्दुस्तान मुफ्ती मोहम्मद असजद रज़ा खाँ कादरी (असजद मियां) की सरपरस्ती व जमात रज़ा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं उर्स प्रभारी सलमान मियां की सदारत व जमात रज़ा के राष्ट्रीय महासचिव फरमान मियां की देखरेख में अदा की जाएगी।
जमात रज़ा के प्रवक्ता समरान खान ने बताया कि पहले रोज़ 06 जून बरोज़ पीर को दरगाह ताजुश्शरिया पर बाद नमाज़-ए-फज़र कुरान ख्वानी व नात-व-मनकबत की महफिल सजाई जाएगी। फिर बाद नमाज़-ए-असर परचम कुशाई की रस्म अदा की जाएगी। जो पहला परचम शाहबाद स्थित मिलन शादी हाल से, दुसरा परचम आज़मनगर स्थित हरी मस्जिद से और तीसरा परचम पुराना शहर स्थित सैलानी से निकलेगा। तीनों परचम कुशाई की रस्म काजी-ए-हिंदुस्तान मुफ्ती असजद मियां के हाथों दरगाह ताजुश्शरिया पर पेंश किए जाएंगे। रात को बाद नमाज़े ईशा मदरसा जामियातुर रज़ा में उलमा-ए-इकराम की तकरीर होगी। फिर दस्तार बंदी और रात को 01 बजकर 40 मिनट पर सरकार मुफ्ती आज़म हिंद के कुल शरीफ़ की रस्म अदा की जाएगी।
दुसरा व आखिरी रोज़ 07 जून बरोज़ मंगल को दरगाह ताजुश्शरिया और मथुरापुर स्थित मदरसा जामियातुर रज़ा में बाद नमाज़े फजर कुरान ख्वानी व नात-व-मनकबत की महफिल सजाई जाएगी। फिर हुजूर ताजुश्शरिया के वालिद हुजूर मुफस्सीरे आज़म हिंद इब्राहिम रज़ा खाँ (जिलानी मिया) के कुल शरीफ की रस्म सुबह 07 बजकर 10 मिंट पर अदा की जाएगी। मुख्य कार्यक्रम मदरसा जामियातुर रज़ा में बाद नमाज़े ज़ोहर नात-व-मनकबत फिर उलमा-ए-इकराम की तरीर होगी। शाम को 07 बजकर 14 मिंट पर हुजूर ताजुश्शरिया मुफ्ती मोहम्मद अख्तर रज़ा खाँ (अज़हरी मियां) का कुल शरीफ होगा। इसी के साथ दो रोज़ा उर्स का समापन हो जाएगा। इस मौके पर मौलाना शम्स रज़ा, मौलाना सय्यद अज़ीमुद्दीन अज़हरी, हाफिज इकराम रज़ा खां, डॉक्टर मेंहदी हसन, शमीम अहमद, मोईन खान, अब्दुल्लाह रज़ा खां, मोईन अख्तर, सय्यद सैफ अली कादरी, अतीक अहमद हश्मती, बख्तियार खाँ, मौलाना आबिद नूरी, गुलाम हुसैन, दन्नी अंसारी, आदी लोग मौजूद रहें ।।

समरान खान
मीडिया प्रभारी
जमात रज़ा-ए-मुस्तफ़ा
दरगाह आला हजरत

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *