क्राईम गोरखपुर

इस्लामी झंडे को बताया पाकिस्तानी, भीड़ ने की तोड़फोड़, देशद्रोह का मुकदमा दर्ज

  • मुख्यमंत्री योगी जी के कान के नीचे इस प्रकार की गुंडागर्दी कानून व्यवस्था पर उठा रही है बड़े सवाल….
  • आखिर कौन कर‌ रहा इन भीड़ो की पुश्तपनाही?
  • इन भीड़ो पर कब लगेगी लगाम?
  • इन्हें देशद्रोह का सार्टिफिकेट बाटने का अधिकार किस ने दिया?
  • कब तक फैलाई जायेगी नफरत?

चौरीचौरा क्षेत्र के मुंडेरा बाजार कस्बे के वार्ड नंबर 10 में बिस्मिल्लाह के घर पर इस्लामी झंडा लगा हुआ था उसे पाकिस्तानी झंडा बताते हुए कुछ शरपसंदों ने उसकी फोटो वायरल कर दी।
वयरल फोटो को संज्ञान में लेकर चोरी चौरा इंस्पेक्टर अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे तो जिस मकान पर झंडा होने की बात कही जा रही थी वहां कोई झंडा तो नहीं मिला पर वहां काफी संख्या में भीड़ ज़रूर मिली। भीड़ की वजह से मकान मालिक ने अंदर से दरवाजा बंद कर लिया था, पुलिस को भी दरवाजा खुलवाने में करीब 1 घंटे लग गए हैं उधर भीड़ का गुस्सा देखते हुए झंगहा थाने की पुलिस को भी बुलाना पड़ा। लोगों को शांत करने के लिए पुलिस ने घर के एक युवक को हिरासत में लेकर थाने भिजवा दिया, पर भीड़ इतने से भी शांत नहीं हुई और पुलिस की मौजूदगी में भी हिरासत में लिए गए युवक की कार तोड़ दी।

पुलिस ने बताया कि यह पाकिस्तानी नही इस्लामिक झंडा है जो मस्जिदों और ताज़ियों में लगाया जाता है, फिर भी कोई मानने को तैयार नहीं हुआ तो पुलिस दबाव में आ गई और तहरीर मिलने की बात करने लगी जिस पर ब्राह्मण जन कल्याण समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष कल्याण पांडे ने पुलिस को तहरीर दे दी। पुलिस ने चार लोगों तालीम पुत्र मुल्ला, पप्पू पुत्र बिस्मिल्लाह, आसिफ पुत्र पप्पू तथा आरिफ पुत्र पप्पू के खिलाफ धारा 124ए यानी देशद्रोह के आरोप में केस दर्ज कर लिया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *