मुंबई

पुकार: इस बार ख़ामोशी कहेगी

मीरा रोड़: कविताएँ, गीत, कहानियाँ आदि हमारे जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं और साहित्य की दुनिया में भी महत्वपूर्ण हैं । लेकिन जब युवा कवियों और लेखकों की बात आती है, तो मज़ा दोगुना हो जाता है और उम्मीदें बढ़ जाती हैं कि युवा कवियों और लेखकों के शब्द भी उनके तरह ही जवाँ होंगे ।

इसी संबंध में, मंगलवार, 6 अप्रैल, 2021 को, मीरा रोड़ के रॉयल कॉलेज ऑफ़ आर्ट्स, साइंस एंड कॉमर्स के आर्टस एसोसिएशन और हिंदी विभाग, की तरफ़ से पुकार 3 का ऑनलाइन आयोजन किया गया । यह अनोखा कार्यक्रम पिछले दो वर्षों से आयोजित किया जा रहा है, लेकिन इस वर्ष यह आयोजन महामारी के कारण ऑनलाइन किया गया । कार्यक्रम का उद्देश्य छात्रों के लेखन कौशल को विकसित करना और उन्हें अपनी प्रतिभा को प्रस्तुत करने का अवसर देना है । यह कार्यक्रम उन लोगों के लिए भी लाभकारी साबित हुआ जो केवल संक्षेप में थे और अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए अनिच्छुक थे । जूनियर और सीनियर कॉलेज के लगभग 40 छात्रों ने हिंदी, उर्दू और अंग्रेजी में अपनी कविताएं प्रस्तुत कीं । उल्लेखनीय है कि पिछले दो वर्षों से इस कार्यक्रम में छात्रों की भागीदारी बढ़ रही है । और कार्यक्रम की एक विशेषता यह भी थी कि कॉलेज के छात्रों के साथ-साथ पूर्व छात्रों को भी अपनी प्रतिभा दिखाने का पर्याप्त अवसर दिया गया था । कार्यक्रम में छात्रों ने इस अच्छी पहल को ख़ूब सराहा और उत्साह के साथ भाग लिया । पूरे कार्यक्रम की व्यवस्था छात्रों ने खुद की थी । कार्यक्रम का निर्देशन सृष्टि जाटकर (छात्र, बीए वर्ष 2), मारिफा (छात्र, बीए वर्ष 2), शुभ्रा पांडे (छात्र बीए वर्ष 2) और स्नेहा पांडे (छात्र, बीए वर्ष 1) द्वारा किया गया । और अंत में राचेल (छात्र, बीए तृतीय वर्ष, प्रभारी हिंदी विभाग) ने समापन टिप्पणी दी और हिंदी विभाग की ओर से सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद किया । इस अवसर पर, प्रोफ़ेसर तबस्सुम (जिम्मेदार, हिंदी विभाग) भी कार्यक्रम में मौजूद रहीं, लेकिन केवल छात्रों को सुनती रहीं और सभी को प्रोत्साहित किया ।

निकट भविष्य में इस तरह के कार्यक्रमों से अवगत कराने के लिए सभी प्रतिभागियों को एक व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से एक साथ जोड़ा गया है ।

रिपोर्ट : सिद्दीक़ी मुहममद ऊवैस
कार्यक्रम प्रतिभागी, छात्र, बी ए वर्ष 2, रॉयल कॉलेज ऑफ़ आर्ट्स, साइंस एंड कॉमर्स, मीरा रोड़

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button