धार्मिक

नमाज़े चाश्त का तरीक़ा

नमाज़े चाश्त का वक़्त
सूरज निकलने के 20 मिनट बाद से ले कर ज़हवये क़ुबरा यानी ज़वाल से पहले तक है, लेकिन ईद के दिन ईद की नमाज़ के बाद पढ़ना होता है

नमाज़े चाश्त में काम से कम 2 रकअत और ज़्यादा से ज़्यादा 12 रकअत हैं और अफ़ज़ल 12 रकअत हैं, अब जो जितनी चाहे पढ़ सकता है
इसके लिए कोई खास तरीक़ा नही है जैसे आम नफ़्ल या सुन्नत की नमाज़ पढ़ते हैं बस वैसे ही पढ़ना है
अब आप चाहे 2 रकअत ही पढ़ें या 4 रकअत या 12, कम से कम 2 रकअत और ज़्यादा से ज़्यादा 12 रकअत है
और चाहे 2-2 रकअत करके पढ़ लें या 4-4 कर के
और अगर 4-4 रकअत करके पढ़ेंगे तो हर क़ायदे में अत्तहयात के बद दुरुदे इबराहीमी और दुआए मासूरह पढ़ना होगा और जब तीसरी रकअत के लिए खड़े होंगे तो सना पढ़ना होगा

नमाज़े चाश्त की नियत
नियत की मैंने (2 या 4) रकअत नमाज़ नफ़्ल नमाज़े चाश्त की वास्ते अल्लाह तआला के रुख मेरा किबला शरीफ़ की तरफ अल्लाहु अकबर

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button