कविता

नात: ऐ मेरे यार तू क्या मुस्तफ़ा शनास नहीं

ज़की तारिक़ बाराबंकवी
सआदतगंज, बाराबंकी,उत्तर प्रदेश
फ़ोन:7007368108

ये तेरे लहजे में क्यूँ उनसुरे-सिपास नहीं
ऐ मेरे यार तू क्या मुस्तफ़ा शनास नहीं

मदीने जाने के असबाब सिर्फ़ बन जाएं
नहीं है ग़म कोई दौलत जो अपने पास नहीं

मुझे दिलाएँ गे फ़िरदौसे-नाज़ आक़ा मेरे
मेरा यक़ीन है ये दोस्तो क़ियास नहीं

ब फ़ैज़े-आक़ा ऐ महशर मुझे तेरा हाँ तेरा
कोई भी ख़ौफ़ नहीं है कोई हिरास नहीं

मेरे नबी की अता तुझ को कैसे मिल पाए
तेरी तमन्ना में पहलू-ए-इल्तिमास नहीं

दरूद पाक पढ़ो और मोजिज़ा देखो
नबी का नाम जहाँ है वहाँ पे यास नहीं

ज़रूर होगा वो दीवान-ए-रसूले-करीम
मुसीबतों के भँवर में भी जो उदास नहीं

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button