आज के दिन

राजमहल का युद्ध और बंगाल में मुग़ल हुकूमत की शुरुआत

आज के दिन ही, 12 जुलाई, 1576 को मुगल सल्तनत और 16 वीं सदी में बंगाल पर हुक्मरानी करने वाली कररानी सल्तनत के बीच फैसलाकुन जंग लड़ी गयी थी। इस जंग में मुगलों की फतेह हुयी और बंगाल भी अकबर-ए-आजम की सल्तनत में शामिल हो गया। जंग के इख्तिताम तक मुगल फौज ने बंगाल के सुल्तान दाऊद खान कररानी को गिरफ्तार कर लिया और बिलआखिर उन्हें सजाये मौत दे दी गयी
मुगलिया सल्तनत के तीसरे ताजदार जलालुद्दीन मोहम्मद अकबर दिल्ली में मौजूद थे जब उन्हें बंगाल से फतह की खबर पहुंची, तो उन्होंने रब की बारगाह में फ़ौरन हाथ ऊपर उठाये और उनका शुक्रिया अदा किया। अपनी इस फतह का जश्न शहंशाह ने हजरत ख्वाजा की दरगाह तक पैदल चल कर मनाया। क्योंकि इस फतह के बाद अब काबुल और कंधार से लेकर बंगाल की खाड़ी तक का सारा इलाका अब मुग़ल हुक्मरानी में शामिल हो चुका था।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *