जीवन चरित्रधार्मिक

फर्रुख और रबीआ की आस्था-प्रेरक कहानी

लेखक: ज़फर कबीर नगरी
छिबरा, धर्मसिंहवा बाजार
जिला संत कबीर नगर उ. प्र. 272154

हज़रत फर्रुख रहमतुल्लाहि अलैहि एक ताबिई हैं, एक बार मस्जिद में नमाज़ अदा करने आए, तो देखा कि मस्जिद के खतीब(वक्ता) लोगों को तुर्किस्तान के लिए जिहाद पर उभार रहे हैं, आप ने उठकर अपना परिचय दिया तथा अपने आप को जिहाद के लिए पेश किया और तैयार होने के लिए घर आए, पत्नी आशान्वित थी, उन्होंने कहा, “मैं इस परिस्थिति में हूं और आप जा रहे हैं। मैं अकेली हूं, क्या होगा?” फर्रुख ने कहा, “मैं तुम्हें और जो कुछ तुम्हारे गर्भ में है अल्लाह को सौंपता हूं, पत्नी ने खुशी-खुशी पति को अल्लाह के रस्ते में जाने के लिए तैयार किया घोड़े पर जीन(काठी) रखी, ढाल लाकर दिया, और फिर उन्हें प्यार भरे लहजे में अलविदा कहा, फर्रुख वहां से चले गए और फिर उनके आने की प्रतीक्षा होने लगी।

उस समय, इस्लामिक विजय का एक सिलसिला चल रहा था, फर्रुख ने युद्ध अभियानों में 27 साल बिताए इधर अल्लाह ने उनकी पत्नी को एक सुंदर पुत्र का वरदान दिया, माँ ने अपने बेटे का नाम “रबीआ” रखा, और अच्छी तरह से लालन-पालन किया, कुछ बड़े होने पर रबीआ ने थोड़ा बहुत लिखना-पढ़ना सीख लिया, तो मां ने उन्हें मदीना के अच्छे शिक्षकों के पास कुरान और हदीस पढ़ने के लिए भेजा, उनकी माँ ने उनके शिक्षण प्रशिक्षण पर अपना सारा पैसा खर्च कर दिया, रबीआ एक बहुत ही प्रतिभावान छात्र साबित हुए, और पढ़-लिख कर एक अच्छा मुकाम हासिल किया, अल्लाह ने उन्हें कुरान, हदीस, फ़िक़्ह और साहित्य आदि सभी मैदानों में परिपक्वता प्रदान किया, पढ़ने के बाद उन्होंने पढ़ाना शुरू कर दिया, बेहतर अध्यापन कार्य के कारण उनसे शिक्षा प्राप्त करने वाले शिष्यों एवं छात्रों की संख्या बढती चली गई, अतः मस्जिद अल-नबवी में में नियमित रूप से शिक्षा प्राप्त करने वाले युवा छात्रों के अलावा, कई वृद्ध लोग भी उनके शिक्षण क्षेत्र में आ गए, मदीना और उसके आसपास के क्षेत्रों में उनकी विद्वता की चर्चा आम थी।

फिर एक दिन रात के कुछ ही पल बीते थे कि एक घुड़सवार अपने बूढ़े शरीर पर तलवार लिए, हाथ में भाला पकड़े और माले गनीमत (युद्ध में प्राप्त माल) घोड़े लादे हुए मदीना मुनव्वरा में दाखिल हुआ, विभिन्न विचारों में गुम, सोचता था कि न जाने मेरा घर वहीं होगा या कहीं और ? मेरी पत्नी जीवित होगी या वह मेरे जाने के बाद दूसरी दुनिया में मेरा इंतजार कर रही होगी? वह गर्भवती थी, उसे कौन सा बच्च उपैदा हुवा होगा और अब कैसा होगा? इन्हीं विचारों में गुम यह बूढा मुजाहिद और गाज़ी अचानक एक घर के सामने खड़ा हो गया, उनके दिल ने कहा कि यह घर तो तुम्हारा ही घर है, वह कुछ सेकंड के लिए रुके और फिर आगे बढ़ कर दिया दरवाजा खोला और बिना किसी हिचकिचाहट के प्रवेश किया, अचानक एक युवक की आवाज ने उन्हें रुकने के लिए मजबूर कर दिया, आपने अपने शरीर पर हथियारों के साथ रात के अंधेरे में मेरे घर में प्रवेश क्यों किया? बूढ़े मुजाहिद की भारी आवाज भरी, मुझे मेरे घर में कौन रोक सकता है? यह तुम्हारा घर नहीं है, यह मेरा घर है, जिसमें तुम प्रवेश कर रहे हो, इस प्रकार दोनों की आवाजें तेज होने लगीं और उनका झगड़ा बढ़ने लगा, इसलिए घर में सोई युवक की मां ने अपनी आँखें खोलीं, और झगड़े के कारणों का पता लगाने के लिए बाहर झाँका, तो उन्हें पने बेटे के साथ उनका पति भी दिखाई दिया, और वहाँ से उन्हों अपने बेटे को बुलाया, रबीआ बात सुनो! यह आपके पिता हैं, अपने पिता को सलाम करें और फिर स्वयं आगे बढ़ और अपने पति फर्रुख का स्वागत किया, और फिर उन्हें बताया कि यह रबीआ है, जो आपका अपना बेटा है, आपके जाने के बाद इसका जन्म हुआ था।

अब तो दृश्य ही बदल गया, दोनों पिता और पुत्र एक दूसरे के हाथ और माथे का चुंबन कर रहे हैं, एक दूसरे को खुशी से देख रहे हैं, और इस तरह सारी रात बातों और एक दूसरे के हाल चाल जानने में बीत गई, इसी बीच, फर्रुख ने पूछा कि बड़ी रकम का क्या हुआ जो मैंने तुम्हें दिया था? पत्नी ने कहा, “आप संतुष्टि रखें सारा पैसा सुरक्षित है, इतने मेंफज्र की नमाज का वक्त आ गया, मस्जिद जाने से पहले फारुख उठे और रबीआ को आवाज दी बेटा! आओ नमाज को चलते हैं, रबीआ की माँ ने कहा कि रबीआ बहुत समय पहले मस्जिद जा चुके हैं, जब वह मस्जिद में पहुँचे तो देखा कि मस्जिद भरी हुई है, नमाज़ अदा की गई और फिर सभी लोग अपने-अपने स्थान पर बैठ गए, और सब लोगों ने अपने इमाम से शिक्षाओं को सुनना शुरू कर दिया, यहाँ राज्य के बड़े बुजुर्ग भी शिक्षाओं में शामिल थे, फर्रख भी इन की शिक्षाओं सुनने के लिए अपनी जगह पर बैठे थे और बहुत खुश थे, लेकिन यह नहीं पहचाना शिक्षण कुर्सी पर बैठने वाले बुजुर्ग कौन हैं, यहां तक कि शिक्षण समाप्त हो गया।

फर्रुख ने अपने पास बैठे हुए व्यक्ति से कहा पढ़ाने वाले ये उच्च कोटि के विद्वान कौन थे? उसने हैरानी से कहा: पूरा मदीना उन्हें जानता है। आप उन्हें नहीं जानते। यह हमारे इमाम रबीअतुल राय हैं, उनका असली नाम रबीआ है, लेकिन धर्मज्ञान के क्षेत्र में अल्लाह ने उन्हें वह स्थान दिया है कि जहाँ किसी को ज्ञान संबंधित कठिनाई हो, वे उनसे पूछते हैं, उसकी राय महत्व रखती है, यही कारण है कि लोग उसे रबीआ के बजाय “रबीआ -अल-राय” कहते हैं, फारुख ने कहा लेकिन आपने मुझे उसका वंश नहीं बताया? तो उस आदमी ने कहा: हां, सुनो! ये फर्रुख का बेटा रबीआ अल-राय है, यह सुनते ही फर्रुख की आँखों में आँसू आ गए, दूसरे आदमी को पता नहीं चला कि ये आँसू क्यों आए, मैंने किसी का सम्मान नहीं देखा, जितना अल्लाह सर्वशक्तिमान ने हमारे बेटे रबीआ को दिया है, अल्लाह का शुक्र है, जिसने हमारे बेटे को इतना बड़ा मुकाम दिया है, और फिर फर्रुख ने अपनी पत्नी को धन्यवाद देना जरूरी समझा, कि आपके अच्छे लालन-पालन ने मुझे आज यह खुशी का दिन दिखाया है, पत्नी ने कहा; क्या आपको अपने बेटे की यह महानता या आपके द्वारा मुझे दी गईं तीस हज़ार अशरफियां पसंद हैं, फर्रुख ने उत्तर दिया, अल्लाह की कसम! तीस हज़ार अशरफियों का इस हैसियत और शान के सामने कोई मुकाम नहीं, पत्नी ने कहा तो सुनिए! मैंने वह सारा पैसा अपने बेटे की शिक्षा और प्रशिक्षण पर खर्च किया है, फर्रुख ने मुस्कुराते हुए कहा, इससे अच्छा सोने की अशरफियाऔ का और क्या फायदा हो सकता है।

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button