धार्मिक

अल्लाह ???

अल्लाह एक अरेबिक शब्द है जो अरबी में परमेश्वर के लिए प्रयोग किया जाता है। हिंदी और अंग्रेज़ी में उसका पर्याय परमेश्वर एवं The God होगा।

अकसर लोगों को यह गलतफमि होती है कि अल्लाह का मतलब सिर्फ मुसलमानों का खुदा या अरब देश का ईश्वर / भगवान होता है।

जबकि ऐसा नही है।
क़ुरान पाक की शुरू की आयत में ही कहा गया है :-

तारीफ़ अल्लाह ही के लिये है जो तमाम क़ायनात का रब है।
बड़ा कृपालु, अत्यन्त दयावान हैं । (क़ुरान 1:1-2)

मतलब अल्लाह ना केवल मुसलमानों का या अरबो का बल्कि समस्त मनुष्य जाति का ही नही ,बल्कि इस पूरे ब्रह्मांड और उसके अलावा जो कुछ भी है (तमाम कायनात) उसका रचियता है और उसका चलाने वाला है । सभी का परमेश्वर है।

इस विश्व मे जितने भी लोग हैं चाहे वे किसी धर्म के हों। या नास्तिक ही क्यों ना हो अमूमन सभी मानते हैं कि सबके ऊपर एक सबसे बड़ा ईश्वर है। या कोई तो है जिसने इस सारी सृष्टि को बनाया है उसी रचियता और परमेश्वर को अरबी भाषा मे अल्लाह के नाम से पुकारा जाता है।

अकसर अज्ञानता और ना मालूमात की वजह से लोग अल्लाह शब्द और इसके पुकारने वालो से दुर्भावना रख लेते हैं और अनजाने में अल्लाह को कुछ भी अनर्गल बोल कर अपने ही बनाने वाले परमेश्वर का अनादर कर पाप के भोगी होते है|

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button