गोरखपुर

कामयाबी के लिए अपनाओ पैग़ंबर-ए-आज़म का कल्चर: नायब काजी

गोलघर में हुआ जलसा

गोरखपुर। सोमवार को नौज़वान कमेटी लाल मस्जिद की ओर से गोलघर में ईद मिलादुन्नबी जलसा हुआ। अध्यक्षता कारी जाकिर हुसैन क़ादरी व संचालन मौलाना मो. फिरोज निज़ामी ने किया। क़ुरआन-ए-पाक की तिलावत हाफ़िज़ मो. अर्सी ने की। नात-ए-पाक कारी बदरुल हसन व कारी आबिद अली ने पेश की।

मुख्य अतिथि मुफ़्ती मोहम्मद अज़हर शम्सी (नायब काजी) ने कहा कि क़ुरआन फरमा रहा है कि अगर कामयाबी चाहिए तो पैग़ंबर-ए-आज़म हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का कल्चर अपनाओ, पैग़ंबर-ए-आज़म का बताया हुआ रास्ता अपनाओ, पैग़ंबर-ए-आज़म की फरमाबरदारी और पैरवी करो। जो अल्लाह और उसके पैग़ंबर की फरमाबरदारी करेगा उसे अज़ीम कामयाबी मिलेगी।

विशिष्ट अतिथि मौलाना मोहम्मद जिब्राइल ने कहा कि कमजोरों पर जुल्म न करो। औरतों की इज्जत करो। उनको सताओ नहीं। मजदूरों पर उनके ताकत से ज्यादा बोझ न लादो और न ही ताकत से ज्यादा काम लो। उनकी मजदूरी बिना परेशान किए हुए पसीना सूखने से पहले अदा करो। हर बड़े का अदब करो। यही पैग़ाम है हमारे पैग़ंबर-ए-आज़म हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का। इसे आम करें। दीन-ए-इस्लाम के फर्जों की अदायगी वक्त पर करें। इंसानियत और एक अल्लाह की इबादत का संदेश देने वाले पैग़ंबर-ए-आज़म समाज में औरतों को सम्मान एवं अधिकार दिए जाने के हमेशा पैरोकार रहे। अंत में सलातो सलाम पढ़कर दुआ मांगी गई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *