गोरखपुर

गोरखपुर: इमामे आज़म अबू हनीफ़ा व इमाम शाफई को उर्स-ए-पाक के जरिए किया याद

गोरखपुर। दरगाह हज़रत मुबारक खां शहीद नार्मल, सब्जपोश हाउस मस्जिद जाफ़रा बाजार व चिश्तिया मस्जिद बक्शीपुर में मंगलवार को हज़रत सैयदना इमामे आज़म अबू हनीफ़ा व हज़रत सैयदना इमाम शाफई रज़ियल्लाहु अन्हु का उर्स-ए-पाक मनाया गया। कुरआन ख्वानी, फातिहा ख्वानी व दुआ ख्वानी की गई।

दरगाह इमाम अफ़ज़ल बरकाती ने कहा कि हज़रत इमामे आज़म अबू हनीफ़ा का नाम नोमान है। आप अबू हनीफ़ा के नाम से मशहूर है। आपकी पैदाइश 80 हिजरी में इराक़ के कूफा शहर में हुई। आपके वालिद का नाम साबित था। आप हज़रत अली की दुआ है। इल्म-ए-हदीस की मारूफ शख्सियत आमिर शाबी कूफी के मशवरे पर इल्मे कलाम, इल्मे हदीस और इल्मे फिक़ह की तरफ ध्यान दिया और ऐसा कमाल पैदा किया कि इल्मी व अमली दुनिया में इमामे आज़म कहलाए।

सब्जपोश हाउस मस्जिद में इमाम हाफ़िज रहमत अली निज़ामी ने कहा कि हज़रत इमामे आज़म अबू हनीफ़ा ने क़ुरआन-ए-करीम और हदीस के ज़खीरे से उम्मते मुस्लिमा को इस तरह मसाइले शरइया से वाक़िफ कराया कि 1300 साल गुज़र जाने के बाद भी तक़रीबन 75 फीसद उम्मते मुस्लिमा उस पर चल रही है और ताकयामत चलती रहेगी। इमाम अबू हनीफ़ा को हदीस-ए-रसूल सिर्फ दो वास्तो (सहाबी और ताबई) से मिली है। बल्कि कई हदीस इमाम अबू हनीफ़ा ने सहाबा-ए-किराम से बराहे रास्त भी रिवायत की है।

हाफ़िज आमिर हुसैन निज़ामी ने कहा कि पैगंबर-ए-आज़म हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम ने अपनी हयात में ही हज़रत इमाम अबू हनीफ़ा के बारे में बशारत दी थी। उस दौर के उलेमा आपके बारे में कहते थे कि कूफा के इमाम अबू हनीफ़ा और उनका फिक़ह पर हमें रश्क है। इमाम अबू हनीफ़ा पेचीदा मसाइल को सब अहले इल्म से ज़्यादा जानने वाले थे। इमाम अबू हनीफ़ा के पास वह इल्म था जिसको अहले ईमान के दिल क़बूल करते है। खलीफा-ए-वक्त ने 146 हिजरी में आपको क़ैद कर लिया। आपकी मक़बूलियत से खौफज़दा खलीफा-ए-वक़्त ने इमाम साहब को ज़हर दिलवा दिया। जिस वजह से 150 हिजरी में सहाबा व बड़े-बड़े ताबेईन से रिवायत करने वाला एक अज़ीम मुहद्दिस व फक़ीह दुनिया से रुखसत हो गया।

चिश्तिया मस्जिद बक्शीपुर में हाफ़िज महमूद रज़ा कादरी ने कहा कि हज़रत इमाम अबू हनीफ़ा के उस्ताद शेख हम्माद, शेख इब्राहीम नखई व शेख अल्क़मा है। शेख हम्माद की सोहबत में इमाम अबू हनीफ़ा 18 साल रहे। शेख हम्माद के इंतकाल के बाद कूफा में उनकी मसनद पर इमाम अबू हनीफा को ही बैठाया गया। गरज़ ये कि इमाम अबू हनीफ़ा हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसूद रज़ियल्लाहु अन्हु के इल्मी वरसा के वारिस बने।मुहद्दिसीन की एक जमात ने 8 सहाबा से इमाम अबू हनीफ़ा का रिवायत करना साबित किया है।

अंत में सलातो सलाम पढ़कर मुल्क व मिल्लत के लिए दुआ की गई। उर्स में सदरे आलम, शोएब अख्तर, अफजल, अरमान, रेहान, अशरफ, असगर, फैज़ान, समीर आलम, इरशाद नूरानी, इस्माईल, सुहैल, हाफिज सद्दाम हुसैन, कारी निज़ामुद्दीन, कारी बदरे आलम निज़ामी, सैफ अली, महबूब आलम, गुलाम जीलानी, मुजम्मिल रज़ा, इमरान, मो. जैद, मो. रूशान, आसिफ रज़ा, रहमत अली अंसारी, साद अहमद, अजहर अली आदि मौजूद रहे।

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button