धार्मिक

निस्बत काम आयेगी

लेखक:अब्दे मुस्तफ़ा

इल्म ज़रूरी है, अमल ज़रूरी है इनका किसी को इंकार नहीं।
दीन के लिये आप का काम और क़ौम के लिये ख़िदमात भी क़ाबिले ज़िक्र हैं पर इन सब के बावजूद अल्लाह वालों से निस्बत एक अलग शय है।

ये निस्बत ऐसी शय है कि ख़त्म नहीं होती, कोई खत्म कर दे तो भी नाम बाक़ी रहता है।
अल्लाह वालों से निस्बत रखने वाले तो पाते ही हैं, निस्बत तोड़ देने वाले भी पाते हैं।
रखने वाले इज़्ज़त और बरकत पाते हैं, तोड़ देने वाले ज़िल्लत और ज़हमत पाते हैं।

अल्लाह त’आला ने फ़रमाया कि तक़वा इख़्तियार करो फिर फ़रमाया कि सच्चों के साथ हो जाओ।
ये हम इन्हीं सच्चों से निस्बत की बात कर रहे हैं।
इनसे निस्बत जोड़े रखिये, ये ग़ैरे खुदा ज़रूर हैं पर खुदा की तरफ ले जाने वाले हैं।
इनकी निस्बत वो दे जायेगी जो पूरी ज़िंदगी की जिद्दो जहद में ना मिल सके।

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button