गोरखपुर

गोरखपुर: बक्शीपुर-तुर्कमानपुर में सामूहिक रोज़ा इफ्तार नौवीं-दसवीं मुहर्रम को

गोरखपुर। गौसे आज़म फाउंडेशन व तंज़ीम कारवाने अहले सुन्नत की ओर से सोमवार 8 अगस्त (नवीं मुहर्रम) को चिश्तिया मस्जिद बक्शीपुर व इमामबाड़ा चिंगी शहीद तुर्कमानपुर में शाम 6:40 बजे से सामूहिक रोज़ा इफ्तार होगा। यह जानकारी फाउंडेशन के जिलाध्यक्ष समीर अली ने दी है।

वहीं इमामबाड़ा चिंगी शहीद में मंगलवार 9 अगस्त (दसवीं मुहर्रम) को भी शाम 6:39 बजे से सामूहिक रोजा इफ़्तार होगा। उक्त जानकारी देते हुए नायब काजी मुफ्ती मो. अजहर शम्सी ने बताया कि 9 व 10 मुहर्रम का रोज़ा रखने की हदीस में बहुत फज़ीलत आई है। 9 व 10 मुहर्रम दोनों दिन का रोज़ा रखना अफज़ल है। पैग़ंबर-ए-आज़म हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मदीना तशरीफ लाए तो यहूदियों को आशूरा (10 मुहर्रम) के दिन रोज़ा रखते हुए देखा। आपने उनसे फरमाया यह कैसा दिन है कि जिसमें तुम लोग रोज़ा रखते हो? उन्होंने कहा यह वह अज़मत वाला दिन है जिसमें अल्लाह ने हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम और उनकी कौम को फ़िरऔन के जुल्म से निज़ात दी और उसको उसकी कौम के साथ दरिया में डुबो दिया। हज़रत मूसा ने उसी के शुक्रिया में रोज़ा रखा, इसलिए हम भी रोज़ा रखते हैं। पैग़ंबर-ए-अाज़म ने फरमाया हजरत मूसा की मुवाफिकत करने में तो तुम्हारी बनिस्बत हम ज्यादा हकदार हैं। चुनांचे पैग़ंबर-ए-आज़म ने खुद भी आशूरा का रोजा़ रखा और सारी उम्मत को उसी दिन रोज़ा रखने का हुक्म दिया। मुसनद इमाम अहमद अैार बज्जाज में हज़रत इब्ने अब्बास से मरवी है कि पैग़ंबर-ए-आज़म ने फरमाया यौमे आशूरा का रोज़ा रखो और उसमें यहूद की मुखालफत करो। यानी नवीं और दसवीं मुहर्रम दोनों दिन रोज़ा रखो।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button