गोरखपुर

इमाम हुसैन ने दुनिया को दिया सब्र व इंसानियत का पैग़ाम

इस ख़बर को अपने पसंदीदा भाषा में पढ़ें [gtranslate]

गोरखपुर। पहली मुहर्रम से शुरु हुआ ‘जिक्रे शोह-दाए-कर्बला’ की महफिलों का दौर चौथी मुहर्रम को भी जारी रहा। ‘शोह-दाए-कर्बला’ का जिक्र सुन सबकी आंखें नम रहीं। शहर की एक दर्जन से ज्यादा मस्जिदों व घरों में कर्बला की दास्तान सुनी और सुनाई जा रही है।

जामा मस्जिद रसूलपुर में मौलाना जहांगीर अहमद अजीजी ने कहा कि कर्बला की जंग दुनिया की पहली आतंकी कार्रवाई थी। जिसमें शहीद हुए लोगों में 6 माह के बच्चे से लेकर 78 साल के बुर्जुग शामिल थे।

गाजी मस्जिद गाजी रौजा के निकट मुफ्ती अख़्तर हुसैन व मौलाना शेर मोहम्मद ने कहा कि इमाम हुसैन शहीद तो हो गये लेकिन दुनिया को सब्रो-इंसानियत का पैग़ाम दे गये और यह बता गये की दीन-ए-इस्लाम सब्र व शहादत से फैला। इसके लिए कुर्बानियां दी गईं।

मरकजी मदीना जामा मस्जिद रेती चौक में मुफ्ती मेराज अहमद क़ादरी ने कहा कि मुसलमानों पर अमीरुल मोमिनीन हज़रत अली, हजरत फातिमा, हज़रत हसन व हजरत हुसैन से मुहब्बत रखना वाजिब है और उनका जिक्र करना इबादत है।

पुराना गोरखपुर गोरखनाथ में नायब काजी मुफ्ती मोहम्मद अजहर शम्सी ने कहा कि हम हज़रत सैयदना इमाम हुसैन की कुर्बानी को नहीं भूल सकते। हमारा अकीदा है कि मुहब्बत-ए-हुसैन के सदके अल्लाह मुसलमानों को बख्शेगा।

बेलाल मस्जिद इमामबाड़ा अलहदादपुर में कारी शराफत हुसैन क़ादरी ने कहा कि पैगंबर-ए-आज़म हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने अपने नवासे हज़रत सैयदना इमाम हुसैन की पैदाइश के साथ ही आपके शहादत की खबर दे दी थी। हज़रत अली, हज़रत फातिमा ज़हरा, हज़रत हसन और खुद इमाम हुसैन भी जानते थे कि एक दिन कर्बला के मकाम पर शहीद किया जाऊंगा, लेकिन किसी ने भी और खुद हज़रत इमाम हुसैन ने भी कभी किसी किस्म का शिकवा जुबान पर नहीं लाया, बल्कि सब्र के साथ अपनी शहादत की खबर सुनते रहे।

जामा मस्जिद मुकीम शाह बुलाकीपुर में मौलाना रियाजुद्दीन क़ादरी ने कहा कि ‘शोह-दाए-कर्बला’ ने दुनिया को सब्र व इंसानियत का एक अज़ीम पैग़ाम दिया है। जिसे रहती दुनिया तक नहीं भुलाया जा सकता।

मक्का मस्जिद मेवातीपुर इमामबाड़ा के निकट मौलाना मो. असलम रजवी ने कहा कि हदीस में है कि पैगंबर-ए-आज़म हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया मुझे हज़रत जिब्रील ने ख़बर दी कि इमाम हुसैन को तफ़ (कर्बला) में शहीद किया जायेगा। हज़रत जिब्रील मेरे पास वहां की मिट्टी लाए और मुझसे बताया कि यह हुसैन के शहादतगाह की मिट्टी है। तफ करीबे कूफा उस स्थान का नाम है जिसको कर्बला कहते है। हदीस में आया है कि वह मिट्टी उम्मुल मोमिनीन हज़रत उम्मे सलमा के पास मौजूद रही। वह फरमाती हैं कि मैंने उस सुर्ख मिट्टी को एक शीशी में रख दिया जो हजरत इमाम हुसैन की शहादत के दिन खून हो गई।

इसी तरह अन्य मस्जिदों में ‘जिक्रे शोह-दाए-कर्बला’ महफिल हुई। अंत में सलातो सलाम पढ़कर मुल्क में अमनो अमान की दुआ मांगी गई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *