बाराबंकी

बाराबंकी: लाखों की लागत से बने आंगनबाड़ी केंद्र पर कार्यकत्री नदारद

इस ख़बर को अपने पसंदीदा भाषा में पढ़ें [gtranslate]

अबू शहमा अंसारी। बाराबंकी! न्याय पंचायत जहांगीराबाद कहां है जहां पर डोभा आंगनबाड़ी केंद्र तो लाखों रुपए की लागत से बना है पर आंगनवाड़ी कार्यकत्री व सहायिका आती ही नहीं है इस आंगनबाड़ी के क्षेत्र में आने वाले लोगों का कहना है कि हम लोगों को बाल पुष्टाहार जो दिया जाता है वो जहांगीराबाद आंगनबाड़ी केंद्र पर बुला कर दिया जाता है तथा हमारे बच्चों को जहांगीराबाद आंगनबाड़ी केंद्र पर ही बुलाया जाता है जो तीन वर्ष के नौनिहालों को दूर जाना असंभव है वहीं पास में बने प्राथमिक विद्यालय डोभा की प्रधानाध्यापिका का कहना है की इस सेंटर पर आंगनबाड़ी कार्यकत्री संगीता पाण्डे कभी नहीं आती है हमें यह भी जानकारी नहीं है कि आंगनबाड़ी केंद्र पर कितने बच्चे हैं जबकि इस आंगनबाड़ी और प्राथमिक विद्यालय का क्षेत्रफल लगभग 6 बीघा के आसपास में है आंगनबाड़ी केंद्र को आवारा मवेशियों का रिहाईसी अड्डा बना हुआ है शाम होते ही सभी मवेशी इसी आंगनबाड़ी में अपना ठिकाना बना लेते हैं आंगनबाड़ी केंद्र की कार्यकत्री संगीता पांडे को आखिर किन अधिकारियों का संरक्षण प्राप्त है लाखों रुपए की लागत से बनी इस बिल्डिंग आंगनबाड़ी क्षेत्र के लाभार्थियों को उनके सेंटर पर क्यों नहीं सुविधा दी जा रही है आखिर जिम्मेदार क्यों मौन बैठे हैं जहाँ उत्तर प्रदेश योगी सरकार पुष्टाहार और शिक्षा को बढ़ावा देने में लगी हुई है वही ऐसे कुछ अधिकारी और कर्मचारी सरकार की योजना को चूना लगाने में पीछे नहीं आ रहे अब इससे साफ पता चल रहा है कि अधिकारियों की मिली भगत से कार्यकत्री अपने सेंटर पर ना जाकर जहांगीराबाद आंगनबाड़ी केंद्र पर ही बैठती है अब देखना यह है कि ऐसे लोगों के खिलाफ संबंधित अधिकारी संज्ञान लेकर उचित कार्रवाई होती है या नहीं

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *