धार्मिक

मोहब्बत-ए-रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम)

लेखक: ज़फर कबीर नगरी
छिबरा, धर्मसिंहवा बाजार, संत कबीर नगर, उ.प्र

अल्लाह तआला ने हमें इस दुनिया में सीधा और सही रास्ता दिखाने के लिए पैगंबर और दूत भेजे, आखिर में उन्होंने पवित्र पैगंबर हजरत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को भेजा, और उनके व्यक्तित्व को पूरी दुनिया के लिए मानक बना दिया, पवित्र कुरान में अल्लाह तआला का इरशाद है: तुम्हारे लिए अल्लाह के रसूल का जीवन सबसे अच्छा आदर्श है, अर्थात पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के जीवन को सामने रखकर इस दुनिया में अपना जीवन व्यतीत करें, जीने दें क्योंकि पैगंबर की जीवनशैली अल्लाह का सबसे पसंदीदा तरीका है, नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम को अंतिम पैग़म्बर बनाया गया था, यानी न कोई पैगम्बर या संदेशवाहक उनके पश्चात आया है न ही आएगा, अल्लाह तआला ने मानवजाति के मार्गदर्शन की जो श्रृंखला आदम अलैहिस्सलाम से आरंभ की थी वह आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के आगमन के बाद पूर्ण हो गयी, सूरह अहजाब आयत नंबर ४० में अल्लाह तआला का इरशाद है, मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) तुम्हारे पुरुषों में से किसी के बाप नहीं है, बल्कि वह तो अल्लाह के रसूल एवं अंतिम संदेष्टा हैं, अर्थात न कोई पैगम्बर या संदेशवाहक उनके पश्चात आया है न ही आएगा, आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम सब के मार्गदर्शक हैं और दुनिया का सबसे सफल व्यक्ति है, और जो कोई भी इस दुनिया और आखिरत में सफल होना चाहता है और उसके बाद, उसके लिए नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम प्यार और उन के बताए गए माार्ग पर चले बिना सफल होने का कोई रास्ता नहीं है, क्योंकि अल्लाह तआला कहता है : कहो, “यदि आप अल्लाह से प्यार करते हो, तो मेरी बात मानो, अल्लाह तुम्हें को प्रिय बनायेगा और आपके पापों को क्षमा करेगा”, (आल-इमरान:३१)।

अल्लाह सर्वशक्तिमान पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर अपने आशीर्वाद एवं कृपाओं की वर्षा करते हैं, स्वर्गदूत दिन और रात उन पर दुरूद और सलाम भेजते हैं और दया की प्रार्थना करते हैं, अल्लाह तआला ने अपनी पुस्तक क़ुरआन में पैगंबर की उम्र की कसम खाई है, पैगंबर की आज्ञाकारिता अल्लाह की आज्ञाकारिता है, और पैगंबर के प्रति अवज्ञा अल्लाह की अवज्ञा है, विश्वासियों (ईमान वालों) को पैगंबर से आगे जाने की अनुमति नहीं है और किसी को भी पैगंबर के सामने जोर से बोलने की अनुमति नहीं है, स्वर्ग पैगंबर की आज्ञाकारिता में है, जहाँ अल्लाह सर्वशक्तिमान ने हमें पैगम्बर का पालन करने की आज्ञा दी है, उनसे प्यार करने का उद्देश्य हीआज्ञाकारिता है, अल्लाह तआला ने हमें नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम का अनुसरण करने की आज्ञा दी है कि यदि आप उनका अनुसरण करते हैं, तो हीआप उनका मार्गदर्शन पायेंगे, अल्लाह तआला का फरमान है, कहो: यदि आपके पिता, आपके बेटे, आपके भाई, आपकी पत्नियाँ, आपकी जमातें, आपका धन, व्यापार जिस की कमी का आपको डर लगता है, और जिन हवेली से आप प्यार करते हैं, अगर वह अल्लाह और उसके रसूल और इसके रास्ते जिहाद से भी प्यारे हैं, तब तुम प्रतीक्षा करो, यहां तक कि अल्लाह अपना आजाब ले आए, अल्लाह फासिकों का मार्गदर्शन नहीं करता ”(अल-तौबह:24)।अर्थात्, निकटतम रिश्तेदार, बच्चे, पत्नियां, माता-पिता, जिनके साथ आदमी दिन-रात बिताता है, और धन, व्यवसाय, इन सभी चीजों का महत्व और उपयोगिता में अपना स्थान है, लेकिन अगर उनका प्यार अल्लाह और उसके रसूल के लिए है, तो शांति उस पर हो। यदि यह अल्लाह के प्रेम से अधिक है, तो अल्लाह इस से बहुत नाराज है, और यह अल्लाह की नाराज़गी का कारण है जो मनुष्य को अल्लाह के मार्गदर्शन से वंचित कर सकता है जैसा कि अंतिम शब्दों से स्पष्ट है, और और पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की हदीस ने भी विस्तार इस बारे में से बताया है, यह कहा जाता है कि हजरत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया: कसम है उस परमात्मा की जिसके हाथ में मेरी आत्मा है, तुम में से कोई भी तब तक मोमिन नहीं है जब तक मैं उससे, उसके पिता, उसके बच्चों और सभी लोगों से अधिक प्रिय न हो जाऊं, (सहीह बुखारी: किताब अल-ईमान), एक बार हजरत उमर रजिअल्लाहु अन्हु ने कहा ऐ अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मुझे आप अपनी जान के अतिरिक्त हर चीज से प्रिय हैं, आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया जब तक मैं आपको अपनी जान से भी अधिक प्रिय ना हो जाऊं उस वक्त तक तुम मोमिन नहीं, हजरत उमर ने आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मुझे अपनी जान से भी अधिक प्रिय हैं, आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया ऐ उमर अब तुम मोमिन हो (बुखारी व मुस्लिम)।

रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने हमें आपसे मोहब्बत का मानक बता दिया, रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से मोहब्बत का तकाजा यह है कि हमें आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से मोहब्बत अपनी जान माल औलाद मां बाप और रिश्तेदारों यहां तक की अपनी सबसे प्रिय चीज से ज्यादा मुहब्बत होनी चाहिए, यही दीन और ईमान की बुनियाद है, यदि इसी में कमी होगी तो दीन एवं ईमान में कमीऔर त्रुटि बाकी रह जाएगी, यह वैसा ही है जैसे अगर कोई व्यक्ति अल्लाह से प्यार करने का दावा करता है, तो वह प्यार तब तक सही नहीं होगा जब तक वह हर मामले में पैगंबर मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का अनुसरण न करे, किसी को तब तक अल्लाह का प्यार प्राप्त नहीं हो सकता जब तक वह पैगंबर का पालन नहीं करता है, और यही सच्चे प्यार की आवश्यकता है, यह समझना महत्वपूर्ण है कि अल्लाह को खुश करने के लिए नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम से प्यार जरूरी है और नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम का प्यार उनकी आज्ञाकारिता में है, इस के लिए अपना पूरा जीवन पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की जीवनी के सांचे में ढालना आवश्यक है, और वास्तव में यही सच्चा प्रेम है, मनुष्य जिस से प्यार करता है उस की आज्ञाओं का पालन करता है, उस की पसंद नापसंद को अपनी पसंद नापसंद बना लेता है, वह अपने प्रिय का सुख चाहता है, और वह उस के क्रोध से बचता है और वह हर समय हर पार्टी में अपने प्रिय का उल्लेख करना पसंद करता है, वह अपने प्रिय को याद करके राहत महसूस करती है, प्यार की एक और विशेषता ता यह है कि जिस से प्यार किया जाता है, उस के विचारों विचारों को आगे पहुंचाया जाता है और अपने प्रिय के मिशन को फैलाने का प्रयास किया जाता, अपने प्रिय के हर अदा को प्यार करता है, और इन सभी चीजों को हम सहाबा के जीवन में पाते हैं और हमें विभिन्न पुस्तकों में इसके अनगिनत उदाहरण भी मिलते हैं।

सहाबा के प्यार का यह आलम था कि जब उन्हें पैगंबर की पसंद-नापसंद का पता चलता तो बिना किसी झिझक या तर्क के उस पर अमल करने लगते, यहां तक कि उन्होंने पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के कपड़े पहनने, उठने, बैठने, खाने, पीने, चलने और पैगंबर की हर अदा को स्वीकार कर लिया था और अपने जीवन को पैगंबर के प्यार के सांचे में ढाल लिया था, यही कारण है कि ऐसे लोगों को अल्लाह ने अपने प्यार का परवाना दे दिया जो अल्लाह और उसके रसूल से इस हद तक प्यार करते थे, आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का अनुसरण करना ही आपसे मोहब्बत का असल तकाजा है, और असली प्यार तो यही है कि हम मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का अनुसरण करें, आपकी पसंद ना पसंद को अपनी पसंद ना पसंद बनाएं, और आपके जीवन के अनुसार अपनी जिंदगी को बिताने की कोशिश करें, यह तभी हो सकता है जब दिल में सच्चा प्यार हो, हम सब रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम से प्यार करते हैं और निसंदेह करते हैं, तो हमें यह समीक्षा करना होगा कि हमारी मोहब्बत के तकाजे पूरे हो रहे हैं कि नहीं, हमें यह जांचना होगा कि क्या पैगंबर के साथ हमारा रिश्ता उनकी आज्ञाओं का पालन करता है, क्या पैगंबर का पालन हमारी जीवन शैली है, क्या हमारे कार्य हमारे प्रेम की गवाही दे रहे है? हम अल्लाह और उसके रसूल से प्यार करने का दावा करते हैं, तो क्या हम अल्लाह और उसके रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की मर्जी के अनुसार काम कर रहे हैं, क्या हमारी जीवनशैली पैगंबर की सीरत के अनुसार है? क्या हम हमेशा अपने अल्लाह और उसके प्रिय नबी को याद करते हैं?

लेकिन जब हम स्वयं को देखते हैं तो हम क्या देखते हैं? जब रबी-उल-अव्वल आता है, तो हम इसे 12 दिनों तक बड़े उत्साह और भक्ति के साथ मनाते हैं, लेकिन उसके बाद अल्लाह और उसके पैगंबर के आदेश हम को याद नहीं रहते हैं, हमारे कर्म नहीं बदलते हैं, हमारे जीवन नहीं बदलते हैं, हमारे दिन और रात नहीं बदलते हैं, हमें यह सोचना होगा कि अगर हम इस दुनिया में और उसके बाद सफल होना चाहते हैं, तो हमें अल्लाह को खुश करना होगा और हम अपने प्रभु को खुश कर सकते हैं जब हम पैगंबर से प्यार करें, उस स्थिति में हमें अल्लाह की खुशी प्राप्त होगी, अल्लाह सर्वशक्तिमान ने उसे अपना प्रिय बना लिया, नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम को अल्लाह द्वारा सर्वोच्च पद दिया गया था जो किसी अन्य पैगम्बर को प्राप्त नहीं हुआ, अल्लाह सर्वशक्तिमान ने पैगंबर का नाम अपने नाम का हिस्सा बनाया,
इस प्रकार, अल्लाह और उसके रसूल का जिक्र जब पुनरुत्थान के दिन तक साथ रहेंगे, अल्लाह तआला की तौहीद (एकेश्वरवाद) रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की रिसालत के साथ पहचानी जाएगी, हमारा ईमान इसी शब्द शहादत से पूरा होता है, इसी तरह, अल्लाह की मुहब्बत रसूल के प्यार के माध्यम से प्राप्त की जा सकती है, हम अल्लाह को केवल तब ही प्राप्त कर सकते हैं जब हम पैगंबर मुहम्मद के दास बन जायें, यदि आप अपने ईश्वर को प्रसन्न करना चाहते हैं, तो आपको पैगम्बर से प्यार करना होगा, हमें अपने जीवन को पैगंबर के धन्य जीवन के अनुसार अनुकूलित करना होगा, इस दुनिया में और उसके बाद में सफलता केवल अल्लाह के रसूल के शुद्ध जीवन को सीखने और अनुसरण करने से ही प्राप्त की जा सकती है, असली प्यार पैगंबर की जीवनी के सांचे में अपने पूरे जीवन को ढालना है, यदि हम अल्लाह और उसके रसूल सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के प्रति सच्चे प्यार का दावा करते हैं, तो हमें अपने शब्दों और कामों के माध्यम से पैगंबर धर्म को लोगों तक पहुंचाना होगा, अल्लाह हमें मुहम्मद की तरह बनाये, आइए हम नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के साथ प्यार से रहें और जीवन के हर कदम पर उनका पालन करें, यही अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के लिए सच्चा प्यार है, आइए हम अपने जीवन भर बिना किसी चाल या तर्क के पैगंबर का पालन करें, अल्लाह तआला हमें इसकी तौफीक अता फरमाए, आमीन।

शोऐब रज़ा

विश्व प्रसिद्ध वेब पोर्टल हमारी आवाज़ के संस्थापक और निदेशक श्री मौलाना मोहम्मद शोऐब रज़ा साहब हैं, जो गोरखपुर (यूपी) के सबसे पुराने शहर गोला बाजार से ताल्लुक रखते हैं। वे एक सफल वेब डिजाइनर भी हैं। हमारी आवाज़

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button