देवरिया व कुशीनगर

भू-माफियाओं के आगे देवरिया जिला प्रशासन असहाय

  • गरीब महिला की जमीन पर अवैध कब्जा नहीं हटवा पा रहा है जिला प्रशासन
  • लेखपाल संजय सिंह कब्जा हटवाने के लिए मांग रहा है दस हजार का घुस, पीड़िता देने में असमर्थ।
  • डीएम/एसडीएम, देवरिया के आदेशों को ठेंगा दिखाता लेखपाल बरियारपुर।

देवरिया, उत्तर प्रदेश।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार भू-माफियाओं के खिलाफ अभियान चला रही है, उच्चतम न्यायलय का भी आदेश है की भू-माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए परन्तु देवरिया जिले के बरियारपुर नगर पंचायत में लेखपाल के मिलीभगत से भू-माफियाओं का अवैध कब्जा गरीबों की जमीन व मकान पर बना हुआ है। जिसकी कई बार शिकायत के बाद भी देवरिया जिला प्रशासन कार्यवाही करने में अपने आप को असहाय महसूस कर रहा है। ज्ञात हो कि देवरिया जिले के बरियारपुर थाना वह नगर पंचायत में वार्ड संख्या- 7, रघुनाथपुर की राधिका देवी पत्नी रामायण प्रसाद पुत्र चंद्रबली प्रसाद को आवास बनवाने के लिए सरकार द्वारा भूमि आवंटित किया गया था, जिसमें वह कई दशकों से झोपड़ी डालकर रह रही थी। विगत वर्ष पीड़िता राधिका देवी अपने देवर के निधन की खबर सुनकर कुछ दिनों के लिए गोरखपुर चली गई, इसी बीच मौका पाकर इनके बगल में रहने वाले दबंग किस्म के भू-माफिया आकाश, अरविंद व राजन पुत्रगण खूबलाल, निवासी- वार्ड संख्या- 7, रघुनाथपुर, बरियारपुर ने इनके मकान व जमीन पर जबरदस्ती अवैध कब्जा कर लिया। जब वह वापस आई तो भू-माफिया ने राधिका को अपने ही घर में नहीं घुसने दिया। विरोध करने पर गाली-गलौज व मारपीट करने लगे। इसकी शिकायत पीड़िता राधिका देवी द्वारा कई बार थाना बरियारपुर, जिलाधिकारी, उप जिलाधिकारी, देवरिया व मुख्यमंत्री जी के यहां दर्ज करा चुकी हैं, परंतु जिला प्रशासन इस प्रकरण पर गंभीरता पूर्वक कोई कार्यवाही नहीं कर पा रहा है, जिससे भू-माफियाओं के हौसले बुलंद हैं। इन्ही भू- माफियाओं द्वारा आम लोगों के लिए स्वीकृत 12 फीट का आम रास्ते में भी अवैध रूप से मकान बनवा कर सड़क को भी कब्जा कर लिया है, जिससे पूरे गांव व मोहल्ले वासियों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। इस प्रकरण के संबंध में जिलाधिकारी देवरिया से बात करने पर पता चला कि पीड़ित महिला के जमीन को अवैध कब्जा मुक्त कराने के लिए राजस्व टीम को आदेश दे दिया गया है। परन्तु पीड़िता राधिका देवी का कहना है कि मैं लगातार एक साल से अधिक समय से जिलाधिकारी, उपजिलाधिकारी व थानों का चक्कर लगा रही हूं, परंतु अभी तक मेरी जमीन व मकान को कब्जा मुक्त नहीं कराया गया है। मकान और जमीन कब्जा मुक्त कराने के लिए लेखपाल संजय सिंह द्वारा रिपोर्ट भी लगा दिया गया है, परंतु लेखपाल भी कई महीनों से दौड़ा रहे हैं और कब्जा मुक्त कराने के लिए दस हजार की घूस मांग कर रहे हैं। जिसको पीड़िता देने में असमर्थ है।उधर लेखपाल की मिलीभगत से भू -माफिया आकाश राजन अरविंद बार-बार जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। कि जमीन छोड़ दो नहीं तो जान से हाथ धोना पड़ेगा, यदि मेरी जमीन व मकान से भू माफियाओं का कब्जा नहीं हटाया गया तो जिलाधिकारी कार्यालय के सामने आत्मदाह करने को विवश होगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *