कानपुर

नगर निगम कानपुर द्वारा नानाराव पार्क में लगे प्रवेश शुल्क को वापस लेने पर विरोध प्रदर्शन

कानपुर। नगर के ऐतिहासिक नानाराव पार्क में दिनांक 09 दिसम्बर 2022 को 12 वर्ष के बच्चो पर 5:00 रू० और 12 वर्ष से अधिक आयु वालो पर 10:00 रू0 प्रवेश शुल्क लगाया गया है। नानाराव पार्क महात्मा गांधी मार्ग (माल रोड) का वर्ष 1857 से आज तक का ऐतिहासिक इतिहास है। 1857 से 1947 तक स्वतंत्रता संग्राम में हुये शहीद वीरो के संघर्षो की याद ताजा करती है, जिसमें . नानाराव पेशवा झांसी की रानी, वीरागंना झलकारी बाई, गणेश शंकर विद्यार्थी हसरत मोहनी जिन्होने अपने लेखों और इंकलाब जिन्दाबाद जैसे नारों को देकर अंग्रेजो के हुकूमत के दांत खटटे कर दिये थे, नानाराव पार्क पहुंचते ही उनके स्वतंत्रता संग्राम के आन्दोलन में की गई त्याग, बलिदान की याद ताजा करते है।
नानाराव पार्क में प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानियों को प्रतिमाएं है जैसे नानाराव पेशवा, मंगल पाण्डेय, बाल गंगाधर तिलक, अजिजन बाई आदि की प्रतिमाओं पर उनके जन्मदिन और निर्वाण दिवस पर शहर की सामाजिक संस्थाए निरन्तर कार्यक्रम किया करती है जिन्होने अंग्रेजो के खिलाफ लड़ाई में अपनी जान दी थी। इन प्रतिमाओं ब्रिटिश शासन काल के दौरान नानाराव पार्क को मेमोरियल वेल’ की स्थापन की गयी थी। जिसमें नानाराव साहब द्वारा हमलों में मारे गये थे जिससे नाना साहब के शौर्य, वीरता का प्रतीक माना जाता था वहीं पर कुंए के बगल में एक पुराना बरगद पेढ भी था जिसे बरगद स्थल भी कहा जाता है। जिसमें संग्राम सेनानियों को फांसी दी गयी थी। ऐसी ऐतिहासिक स्थल पर जबकि जनता को प्रोतात्साहित करना चाहिये कि वहां के इतिहास के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके और नानाराव पार्क के इतिहास के बारे में लोगो में चर्चा कर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को याद किया जा सके।धरना देने वालो में सर्वश्री का०सुभाषनी अली पूर्व सांसद, सुरेश गुप्ता रालोद / संयोजक, नगर अध्यक्ष मोहम्मद उस्मान श्याम देव सिंह पूर्व अध्यक्ष कांग्रेस, प्रदीप यादव अध्यक्ष राजद, अशोक तिवारी सचिव सी०पी०एम०, पिन्टू ठाकुर उपाध्यक्ष सपा, प्रशस्त धीर फावर्ड ब्लाक, गोविन्द नारायण दलित शोषित मंच, अनिल सोनकर ग्रामीण सपा, राजेन्द जायसवाल, कुमुद साहनी, गौरीशंकर आदि थे।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button