स्वास्थ्य

दिवाली में आँखों की सुरक्षा कैसे करें? जानते है कृतिम नेत्र विशेषग्य डा० सुमित्रा अग्रवाल जी से

डा० सुमित्रा अग्रवाल, कोलकाता
डायरेक्टर आर्टिफिशियल ऑय को

दिवाली जहां एक तरफ माँ लक्ष्मी, कुबेर, धन, पकवान, रौशनी का तेव्हार है वही दूसरी तरफ पटाखे फोड़ने का आग्रह बच्चो में बना रहता है। कुछ सावधानिया अवस्य बरते। पटाखे फोड़ने से लगातार धुएं से आंखों में जलन या पानी आ सकता है।
सुनिश्चित करें कि खुले क्षेत्र में पटाखे फोड़ने से पहले आस-पास कोई ज्वलनशील या भड़काऊ पदार्थ न हो। पटाखों को हमेशा किसी प्रतिष्ठित और लाइसेंस प्राप्त विक्रेता से ही खरीदें। पटाखा लेबल पर दिए गए निर्देशों को पढ़ना याद रखें, खासकर यदि पहली बार इसका उपयोग कर रहे हैं। आतिशबाजी को किसी भी ज्वलनशील या ज्वलनशील पदार्थ से दूर एक बंद कंटेनर में रखा जाना चाहिए।

ये सावधानियां बरतें
पटाखों को जलाने के लिए अगरबत्ती का प्रयोग करें क्योंकि माचिस और लाइटर बच्चों के लिए खतरनाक हो सकते हैं।
पटाखा किस्मों में सबसे खतरनाक माने जाने वाले बॉटल रॉकेट से बचें।रॉकेट को खुले और बड़े क्षेत्रों में ही जलाना चाहिए।
पटाखे जलाते समय सुरक्षित दूरी बनाए रखें।अपना चेहरा पटाखों के ज्यादा पास न रखें।
हो सके तो सुरक्षात्मक चश्मे का प्रयोग करें।
पटाखे फोड़ते समय कॉन्टैक्ट लेंस पहनने से बचें।
यदि पटाखों में विस्फोट न हो तो उन्हें पानी में फेंक देना चाहिए।
कभी भी हाथ में पटाखा न जलाएं।
घर के अंदर या वाहन के अंदर कभी भी पटाखे न जलाएं। पटाखों को जलाने के बाद साबुन से हाथ जरूर धोएं।
पटाखे फोड़ते समय बालों को अच्छी तरह से बांध लें।
क्या पहन रहे हैं, इस पर नजर रखें। लंबे और ढीले कपड़े पहनना मना है क्योंकि उनमें आग लगने का खतरा होता है। इसके बजाय, सूती कपड़े पहनें जो अच्छी तरह से फिट हों।

अगर दुर्घटना हो जाए तो इन बातों का ध्यान रख्खे –
आंखों में चोट लगने पर आंखों को मत रगड़ें।
अगर कोई कण बड़ा है या आंख में फंस गया है तो उसे न हटाएं।
आंखें बंद करके नेत्र चिकित्सक के पास जाएं।
अगर कोई केमिकल आंखों में चला जाए तो तुरंत आंखों और पलकों के नीचे ३0 मिनट तक सिंचाई करें। तुरंत नेत्र चिकित्सक से मिलें। आतिशबाजी से दूर रहें। बच्चों को पटाखे न जलाने दें।

सुनिश्चित करें कि बच्चे को निगरानी में रख्खे जब वे पटाखे फोड़ता है। बच्चों के साथ अतिरिक्त सावधानी बरतें। दिवाली की सुबह कामनाये।

हमारी आवाज़

हमारी आवाज एक निष्पक्ष समाचार वेबसाइट है जहां आप सच्ची खबरों के साथ-साथ धार्मिक, राष्ट्रीय, राजनीतिक, सामाजिक, साहित्यिक, बौद्धिक‌ एवं सुधारवादी लेख तथा कविता भी पढ़ सकते हैं। इतना ही नहीं आप हमें अपने आस-पड़ोस के समाचार और लेख आदि भी भेज सकते हैं।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button